ALL करोना वायरस राजनीति देश/विदेश बस्ती मण्डल उत्तर प्रदेश आयुर्वेद/जीवनशैली सम्पादकीय जय हो जनता की धर्म/,ज्योतिष वीडियो
बैंक आवेदन लोन आवेदन निरस्त नहीं के सकता - जिलाधिकारी
February 26, 2020 • कपीश मिश्र • बस्ती मण्डल

 

बस्ती:-  एक जनपद एक उत्पाद योजना में बैंक के एक ब्रान्च मैनेजर ने ऋण पत्रावली इस टिप्पणी के साथ निरस्त कर दिया कि फर्नीचर की डिमाण्ड नही है। एक अन्य ब्रान्च मैनेजर ने जेसीबी ड्राईवर का आटो इंजीनियरिंग वक्र्स की ऋण पत्रावली यह कहते हुए निरस्त कर दिया कि एक ड्राईवर दुकान नही चला सकता है। जिला उद्योग बन्धु की बैठक में जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन के सम्मुख यह रिपोर्ट दी गयी। उन्होने इन शाखा प्रबन्धको का स्पष्टीकरण तलब करने के लिए बैंक के जिला समन्वयको को निर्देश दिया है।
उल्लेखनीय है कि एक जनपद एक उत्पाद योजना प्रदेश सरकार की महत्वाकाॅक्षी योजना है। इसके तहत जिले में फर्नीचर उद्योग को चुना गया है। इसके बाद भी शाखा प्रबन्धक की यह टिप्पणी आश्चर्यजनक रही। जिलाधिकारी ने यह जानना चाहा की ब्रान्च मैनेजर को कौन सी विशेष टेªनिंग मिली है जिसके आधार पर वे इस प्रकार की टिप्पणी लिख रहे है।
जिलाधिकारी ने कहा कि आरबीआई के निर्देशानुसार अब बैंक शाखा की सर्विस एरिया की बाध्यता समाप्त कर दी गयी है। यदि जिले के किसी भी बा्रन्च में आवेदक का खाता है तो बैंक लोन से मना नहीं कर सकता है। साथ ही यह भी निर्देश है कि शाखा प्रबन्धक कोई ऋण आवेदन पत्र निरस्त नही कर सकता है। यदि वे उचित नही पाते है तो आवेदन पत्र टिप्पणी के साथ अपने कंट्रोलर को भेजेंगे।
उन्होंने समीक्षा में पाया कि एक जनपद एक उत्पाद योजना में 40 लक्ष्य के सापेक्ष 12 ऋण आवेदको को 16.50 लाख रूपये मार्जिंग मनी के साथ ऋण वितरित किया गया है। उद्योग विभाग द्वारा 122 ऋण आवेदन पत्र बैंको को भेजा गया है।
अध्यक्ष अशोक कुमार सिंह ने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र में सड़क निर्माण एवं दो-दो मीटर इण्टरलाकिंग का कार्य शेष है, वहाॅ आना-जाना कठिन हो रहा है। कार्यदायी संस्था यू0पी0 एस0आई0डी0सी के प्रतिनिधि ने बताया कि सड़क को गिट्टी डालकर ऊचा किया गया है परन्तु टापवर्क एवं इण्टरलाकिंग बाकी है, चार माह से कार्य रूका है। जिलाधिकारी ने 15 दिन के भीतर कार्य पूरा कराने का निर्देश दिया है। अन्यथा की स्थिति में ठेकेदार के विरूद्ध कार्यवाही की जायेंगी।
बैठक में औद्योगिक क्षेत्र में वाटरलागिंग की समस्या के बारे में बताया गया। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है कि यह क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अन्तर्गत आता है इसलिए वे इसे महायोजना में शामिल करें। आवश्यकतानुसार बाद में ड्रेनेज सिस्टम तैयार किया जायेंगा। बैठक में औद्योगिक सुरक्षा संबंधी कोई मामला प्रकाश में नही आया। उद्यमियों ने टैक्सी स्टैण्ड संचालको द्वारा अवैध वसूली का मामला उठाया। इस पर जिलाधिकारी ने नगर पालिका को कार्यवाही करने का निर्देश दिया है।
बैठक का संचालन उपायुक्त उद्योग उदय पासवान ने किया। बैठक में सीडीओ सरनीत कौर ब्रोका, सीओ गिरिश सिंह, अधिशासी अभियन्ता विद्युत संतोष कुमार, अजय सिंह, योगेन्द्र पाण्डेय, एसके सिंह एलबी, जगन्नाथ प्रसाद, विजय, साहब लाल, केएन श्रीवास्तव, सुखराम सोनकर, उद्यमी अशोक सिंह, एचएस शुक्ला, वीके मिश्र, राजकुमारी सूर्यवंशी, अनिल सिंह, हेमन्त कुमार सावलानी उपस्थित रहे।