ALL करोना वायरस राजनीति देश/विदेश बस्ती मण्डल उत्तर प्रदेश आयुर्वेद/जीवनशैली सम्पादकीय जय हो जनता की धर्म/,ज्योतिष वीडियो
चीन बॉर्डर पर भारतीय सेना को मिले कार्यवाही की छुट
June 16, 2020 • कपीश मिश्र • देश/विदेश

नई दिल्ली :- भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में जारी टकराव अब सांतवें हफ्ते में दाखिल हो चुका है। दोनों देशों के बीच मिलिट्री और राजनयिक स्‍तर की वार्ता जारी है. लेकिन सोमवार रात हुई हिंसा के बाद इस बीच सूत्रों की ओर से जो जानकारी आई  है, उसके मुताबिक सेना को निर्देश दे दिए गए हैं कि वह अपनी जरूरत के हिसाब से ही फैसले ले। सरकारी के उच्‍च सूत्रों के हवाले से इंडियन एक्‍सप्रेस ने लिखा है कि भारत तब तब अपने जवानों को तैनात रखेगा जब तक कि इस मसले को कोई हल नहीं निकल आता है।

 

एक्‍शन के लिए केंद्र सरकार की हां जरूरी नहीं

 

चीन ने क्षेत्र की यथास्थिति को बदल दिया है और साथ ही अतिरिक्‍त जवान तैनात कर दिए हैं।भारत ने भी अपनी ताकत को बढ़ाया है।

ऐसे में सेना को निर्देश दे दिए गए हैं कि वह स्थितियों के मुताबिक आपातकालीन शक्तियों का प्रयोग करे। सेना से जुड़ी करीबी सूत्रों ने बताया है, 'सेना को तैनाती के लिए आपातकालीन ताकत दे दी गई है। अब नई स्थिति के मुताबिक बिना दिल्‍ली की तरफ देखें हम फैसला ले सकते हैं।'

 

पहले चीनी जवान पीछे हटें, तब होगी बात

दोनों देशों के बीच अब अगले दौर की लेफ्टिनेंट जनरल स्‍तर की वार्ता तभी होगी जब गलवान और हॉट स्प्रिंग्‍स क्षेत्र पेट्रोलिंग प्‍वाइंट्स (पीपी) 14, 15 और 17 से चीनी जवान पीछे हटेंगे। छह जून को 14 कोर के लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने चीन के साउथ शिनजियांग मिलिट्री डिस्‍ट्रीक्‍ट कमांडर मेजर जनरल ल्‍यू लिन से चुशुल-मोल्‍डो बॉर्डर प्‍वाइंट पर मुलाकात की थी। दोनों देशों के बीच अब तक पांच दौर की वार्ता हो चुकी है और अब अगले दौर की मीटिंग की तैयारी की जा रही है। रक्षा सूत्रों की मानें तो चीनी अगले दौर की बातचीत के लिए तैयार हैं लेकिन भारत की तरफ से अभी मीटिंग से पहले पीपी 14, 15 और 17A पर जवानों के पीछे हटने का इंतजार किया जा रहा है। जबकि भारत वार्ता से पहले चीन की तरफ से जवानों को पीछे हटने का इंतजार कर रहा है।