ALL करोना वायरस राजनीति देश/विदेश बस्ती मण्डल उत्तर प्रदेश आयुर्वेद/जीवनशैली सम्पादकीय जय हो जनता की धर्म/,ज्योतिष वीडियो
गोरखपुर संतकबीरनगर बस्ती बॉर्डर सील ,नहीं मिलेगा किसी को प्रवेश गोरखपुर में
May 3, 2020 • संवादाता • उत्तर प्रदेश

गोरखपुर के तीनों कोरोना संक्रमितों के दिल्ली-मुंबई से आने के बाद हुई किरकिरी के बाद जिला प्रशासन ने बार्डर पर सख्ती और बढ़ा दी है। सीमा पूरी तरह सील कर दी गई है। बड़ी संख्या में पुलिस के साथ ही सेक्टर मजिस्ट्रेट भी तैनात कर दिए गए हैं।

यहां तक की संतकबीरनगर या बस्ती से आकर गोरखपुर में काम करने वाले सरकारी कर्मचारी भी अब बार्डर नहीं क्रास कर सकेंगे। ऐसे कर्मचारियों को गोरखपुर में ही रहने का ठिकाना खोजना होगा। 
इसी तरह से जिले के जो कर्मचारी संतकबीरनगर या बस्ती जाकर रोजाना ड्यूटी करते हैं, उन्हें भी वहीं रहने का इंतजाम करना होगा। किसी कर्मचारी ने निर्देश की अनदेखी की तो उसे सस्पेंड किया जाएगा।
बृहस्पतिवार को डीएम के. विजयेंद्र पांडियन, एसएसपी डॉ. सुनील गुप्ता, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व एसडीएम सहजनवां अनुज मलिक ने बार्डर का निरीक्षण कर व्यवस्था जांची। इस दौरान डीएम ने बताया कि बाहर से आने वाली सभी एंबुलेंस पर नजर रखी जाएगी।
सिर्फ गोरखपुर के पास ही होंगे मान्य, बाकी पर नो एंट्री
जैसे ही कोई एंबुलेंस गोरखपर की सीमा पर पहुंचेगी उसे वहां से पुलिस की निगरानी में पहले गीडा स्थित पूर्वांचल डेंटल कॉलेज लाया जाएगा। वहां पर सभी का स्वास्थ्य परीक्षण होगा। गंभीर हालत वाले मरीजों को वहां से तत्काल मेडिकल कॉलेज या जिला अस्पताल भेजा जाएगा जबकि बाकी के सदस्यों और एंबुलेंस चालकों को वहीं पर 14 दिन के लिए क्वारंटीन कर दिया जाएगा।

उनके खाने पीने का इंतजाम वहीं पर किया गया है। बाहर से आने वाले सभी मरीजों को अस्पताल में रखा जाएगा। उनके कोरोना जांच की रिपोर्ट आने पर ही वह घर जा सकेंगे।

डीएम के. विजयेंद्र पांडियन ने पास को लेकर भी सख्ती कर दी है। अब गोरखपुर से जारी पास ही मान्य होंगे। यानी अगर आप दिल्ली, लखनऊ, राजस्थान या किसी भी दूसरे प्रांत या जिले के संबंधित जिला प्रशासन से पास बनवाकर गोरखपुर आना चाहते हैं तो आपको एंट्री नहीं मिलेगी।

सिर्फ मेडिकल इमरजेंसी की ही दशा में एंट्री मिलेगी, वह भी निगरानी के साथ। पहले मरीज को अस्पताल भेजा जाएगा। कोरोना जांच के बाद ही वह घर जा सकेगा। इसके साथ ही बाकी लोग क्वारंटीन किए जाएंगे।
कसरवल में लगेगा सीसीटीवी कैमरा
एसएसपी डॉ. सुनील गुप्ता ने बताया कि कसरवल में सीसीटीवी कैमरा लगेगा। बार्डर को पूरी तरह सील कर दिया गया है। पगडंडियों पर भी नजर रखी जा रही है। सब जगह पुलिस तैनात कर दी गई है। जिले की सीमा पर जैसे ही कोई एंबुलेंस पहुंचेगी वहां से पुलिस के साथ ही आगे बढ़ पाएगी। शहर में मौजूद सभी एंबुलेंस की जांच की जाएगी।

बिना जांच शहर में न दाखिल होने पाए कोई वाहन: कमिश्नर
कमिश्नर जयंत नार्लिकर ने भी बृहस्पतिवार को आयुक्त सभागार में डीआईजी, डीएम, एसएसपी, एडीएम सिटी आदि अफसरों के साथ बैठक कर कोरोना से बचाव के लिए किए जा रहे प्रयासों की समीक्षा की।

उन्होंने कहा कि शहर में आने वाले रास्तों पर कड़ी चौकसी बरती जाए। किसी भी वाहन को बिना जांच के शहर की सीमा में दाखिल न होने दिया जाए। जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग मिलकर ऐसे लोगों की सूची तैयार करें जो बीमार हैं और दूसरे प्रदेशों , जिलों में उनका इलाज चल रहा है। ऐसे लोगों की भी सूची तैयार की जाए जो अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित हैं। एंबुलेंस पर विशेष नजर रखी जाए।