ALL करोना वायरस राजनीति देश/विदेश बस्ती मण्डल उत्तर प्रदेश आयुर्वेद/जीवनशैली सम्पादकीय जय हो जनता की धर्म/,ज्योतिष वीडियो
करोना इफेक्ट लखनऊ में शिक्षकों का कॉपी जांचने से इंकार
March 18, 2020 • कपीश मिश्र • उत्तर प्रदेश

सूचना भवन सभागार में मंगलवार को नॉवेल कोरोना वायरस को लेकर बैठक उपायुक्त डॉ. भुवनेश प्रताप सिंह की अध्यक्षता में हुई। मौके पर वैश्विक स्तर पर कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए हजारीबाग जिले में इसके प्रभाव के नियंत्रण एवं तैयारियों को लेकर गहन विचार विमर्श किया गया।

बैठक में कोरोना संक्रमण से संबंधित संभावित जगहों यथा कोचिग संस्थान, होटल एवं रेस्टूरेंट संचालक एवं रामनवमी अखाड़ा समितियों के साथ वायरस के संक्रमण की रोकथाम से संबंधित विशेष चर्चा एवं रोकथाम के उपायों पर गौर किया गया। कोचिग व शिक्षण के साथ हुई बैठक में उपायुक्त ने कहा कि सरकार के निर्देश के आलोक में कोरोना वायरस की संभावना को नियंत्रण करने करने के लिए एहतियातन सभी शिक्षण संस्थान अगले 24 घण्टे के अंदर सभी प्रकार ट्यूशन और कक्षाएं अगले 14 अप्रैल तक बंद रखें।
पुलिस अधीक्षक मयूर पटेल ने कहा कि जिले में होस्टल अथवा लॉज में बड़ी संख्या में छात्र रहते हैं। बाहर के लोग भी छात्रों से मिलने आते रहते हैं। समय विशेष पर सार्वजनिक स्थलों पर भारी संख्या के जुटान होता है, इससे बड़े पैमाने पर संक्रमण की संभावना बन सकती है। इसको देखते हुए शिक्षण संस्थान खुलने तक सभी छात्रावास एवं लॉज मालिकों हॉस्टल एवं लॉज खाली करने का निर्देश दिया। उन्होंने छात्रों से सुरक्षात्मक ²ष्टिकोण से उठाये गये इस एहतियाती कदम में प्रशासन का सहयोग करने की अपील की।

मंगला जुलूस सीमित व स्थानीय स्तर पर आयोजित करने पर बनी सहमति

रामनवमी अखाड़ा समितियों के साथ रामनवमी पर्व एवं मंगला जुलस पर विचार विमर्श किया गया। जुलूस में जुटने वाली भीड़ को देखते हुए सहमति बनी की इस बार के मंगला जुलूस को सीमित रखा जाएगा। सभी अखाड़ा समिति अपने अपने मुहल्ले में ही मंगला जुलूस निकालेंगे। साथ ही इसकी सूचना संबंधित थाना में देने का निर्देश दिया गया। मौके पर उपायुक्त ने कहा कि आने वाला 2 सप्ताह कोरोना प्रसार के ²ष्टिकोण से संवदनशील है। इसलिए इस दौरान विशेष सतर्कता बरतने की जरूरती है। इसमें अखाड़ा समितियों का सहयोग अपेक्षित है। उन्होंने रामनवमी का आयोजन सुरक्षित तरीके से हो इस पर बल दिया। अखाड़ा में अखाड़ा समितियों ने सहमति जताई कि मंगला जुलूस को इसबार सीमित पैमाने पर आयोजित किया जाएगा। उपायुक्त ने अखाड़ा समिति के सदस्यों से अपने स्तर से भी कोरोना वायरस को लेकर लोगों को जागरूक करने की बात कही।