ALL करोना वायरस राजनीति देश/विदेश बस्ती मण्डल उत्तर प्रदेश आयुर्वेद/जीवनशैली सम्पादकीय जय हो जनता की धर्म/,ज्योतिष वीडियो
वाहन रिकवरी गिरोह से सावधान। ,बस्ती में सक्रिय है वाहन रिकवरी के नाम पर धोखाधड़ी करने वाला गिरोह
February 4, 2020 • कपीश मिश्र • बस्ती मण्डल

बस्ती :-जनपद में फाइनेंस कम्पनियो / बैंकों के संरक्षण में   संगठित गिरोह जो कहने को रिकवरी का काम करते है सीधे साधे उपभोक्ताओं के साथ धोखाधड़ी कर उनके वाहनों को बेंच रहा है उनका अनैतिक प्रयोग करते है। गिरोह में एजेंसी ,दबंग युवा,आरटीओ ऑफिस के चंद कर्मी और दलाल शामिल है।

ये संगठित गिरोह एजेंसी/ वित्तीय संस्थानों से जानकारी लेते है जिनकी कुछ किश्ते बाकी हो । फिर वे उपभोक्ता के पास से जबरिया बिना रिसिविंग दिए वाहन अपने कब्जे में ले लेते है। फिर शुरू होता है गिरोह का खेल ।

बकाया किश्तों का एक मुश्त भुगतान कर वाहन उपभोक्ता के कागजात, बंधक पत्र,सेल लेटर और नो ड्यूज़ नियम विरुद्ध तरीके से गिरोह हासिल कर लेता है और आरटीओ ऑफिस की मिली भगत से वाहन दूसरे खरीददार के नाम ट्रांसफर कर देता है। वास्तविक उपभोक्ता अपनी हज़ारो की मारज़िन मनी ,और भुगतान की हुई किश्तों में हजारों रुपये गवां देता है। यह संगठित गिरोह इस रुपये को आपस मे बांट लेता है।

          ऐसा ही एक मामला  थाना वाल्टर गंज अंतर्गत गंगा पुर के बजाज सीटी 100 मोटर सायकिल के स्वामी श्यामू के साथ हुआ। श्यामू ने प्रकरण की जानकारी पुलिस अधीक्षक को देते हुए आपराधिक मुकदमा दर्ज किए जाने की मांग किया है।फिलहाल वाहन गनेशपुर चौकी में सीज़ है और क्षेत्राधिकारी सदर को प्रकरण की जांच सौंपी गई है।
       श्यामू ने अपने पुत्र के लिए बजाज एजेंसी  बभनान से एक बजाज सीटी 100, UP 51AR- 9592 ,मारज़िन मनी देते हुए फरवरी 2019 में किश्त पर हासिल किया था ।  किश्त का भुगतान भी किया एक किश्त न दे पाने पर मई माह म के अंत मे दो व्यक्ति अपने को एजेंसी का बताते हुए गाड़ी पेपर्स के  साथ ले गए।
  02 जनवरी2020 और 13 जनवरी 2020 को उक्त वाहन के चालान किये जाने की सूचना मोबाइल पर प्राप्त हुई।  चलन की धन राशि, और वाहन उसके नाम से सड़क पर चल रही है देख उसका माथा ठनका कि कही वह वाहन किसी आपराधिक कृत्यों में तो प्रयोग नही की जा रही है। श्यामू ने जब एजेंसी पर सम्पर्क किया तो एजेंसी ने गाड़ी वापस  लेने के लिए किसी को भेजने से इनकार किया, और वाहन के बकाए के पूर्ण भुगतान होने की जानकारी दिया।
श्यामू द्वारा नो ड्यूज़ और बंधक रखे पेपर्स के मांगने पर उसने बकेए भुगतान करने वाले अज्ञात व्यक्ति को देने की बात कही ,जो क़ि नियम विरुद्ध है। 
  ऐसे में घबराए श्यामू ने पुलिस अधीक्षक को पूरे प्रकरण से अवगत कराते हुए वाहन को कब्जे में लेने और अपराध में शामिल लोगों के विरुद्ध प्रथमिकी दर्ज किए जाने की मांग किया । साथ ही आरटीओ को प्रकरण की जानकारी देते हुए वाहन बिना अनुमित बेचने की जानकारी देते हुए ट्रांसफर न किये जाने की दरखास्त दिया है।
फिलहाल गणेश पुर चौकी में वाहन जमा  है। एडिशनल एसपी ने प्रकरण को गंभीर मानते हुए क्षेत्राधिकारी बस्ती सदर को जांच दे दिया है।
पूछने पर उन्होंने कहा कि फाइनेंस किये हुए वाहनों के वापस लेने की प्रक्रिया है। वर्तमान में वाहन मालिक का वाहन बिना उसकी जानकारी के सड़क पर चल रही थी । जांच में अपराध कारित होने की जानकारी पर प्रथमिकी दर्ज कर कार्यवाही की जाएगी।